Logo
यदा ते मोहकलिलं बुद्धिर्व्यतितरिष्यति।
तदा गन्तासि निर्वेदं श्रोतव्यस्य श्रुतस्य च ।।
अर्थ जिस क्षण तुम्हारी बुद्धि मोह के अंधकार को पार कर जाएगी उसी समय तुम सुने अनसुने भोगों से वैरागय को प्राप्त हो जाओगे व्याख्याभगवान कह रहे हैं कि जिस समय से ब्रह्म बना है तब से ही जीव आगे से आगे जन्म लेकर भटक रहा है और जब तक ज्ञान नहीं होगा भटकता ही रहेगा, लेकिन जिस समय में बुद्धि मोह रूपी दल-दल से तर जाएगी, यानि इस संसार में आपको जिस भी व्यक्ति या वस्तु से मोह है, तब तक दल-दल है। मोह वह दल-दल है जिसमें फँसने के बाद व्यक्ति हमेशा धँसता ही रहता है और अगर इस मोह रूपी दल-दल को आपने सम होकर पार कर दिया उस वक्त, जो आजतक सुना है या सुनने में आ रहा है, उन सब भोगों से वैराग्य (छुटकारा) हो जाएगा।